Science जीव विज्ञान के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न एवं उत्तर

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
  • Science जीव विज्ञान के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न एवं उत्तर।

Science(1).  परागकण क्या है कायिक तथा जनन कोशिका में विभेद करें।Science

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

उत्तर:- परागकण नर युग्मकोदभिद को निरूपित करता है। यह बाहर से कठोर विधि से घिरा रहता है जिसे वाहयचोर कहते हैं तथा मोहन तेरी कृति को आकाश चोल कहते हैं। परिपक्व प्रांगण में दो कोशिकाएं होती है(1) कायिक कोशिका यह आकार में बड़ी तथा परचूर खाद भंडार युक्त होती है।(2)

जनन कोशिका यह आकार में छोटा तथा वर्तुलाकार होती है।

(2). कृत्रिम संकरण पर नोट लिखें।

उत्तर:- कृत्रिम संकरण फसल संवर्धन योजना का एक प्रमुख तकनीक है। इस तकनीक द्वारा यह सुनिश्चित किया जाता है कि वांछित परागकन का उपयोग परागण के लिए किया जाए। साथ ही वर्तीकाग्र को अवांछित परागण के संक्रमण से बचाया जा सके। ऐसे वीपुनशन तथा बैंकिंग तकनीक से प्राप्त किया जा सकता है यदि कोई माता पेरेंट्स द्विलिंगी पुष्पा वाले हो तो पुष्प से परागकोष को अलग किया जाता है स्कूटीकारण से पहले। ऐसा एक जोड़ा चिंता के प्रयोग द्वारा किया जाता है। इस अस्वास्था कोही वीपुनशन कहते हैं। विभूषित पुष्पक को एक खास आकार की थैली द्वारा ढक दिया जाता है यह थैली प्रातः वटर पेपर का बना होता है। इसके रिया को पराबैगनी कहते हैं। जब थैलविरित पुष्प का प्रतिकार ग्रहण को प्राप्त करता है तो परिपक्व पराग करण का संग्रह जो मेल पेरेंट्स से किया गया हो भर्तीकार पर dusted किया जाता है तथा पुष्प को पुनः पराबैगनी कर

विकसित होने के लिए छोड़ दिया जाता है।

(3).डायनेमो क्या है?

उत्तर- एक युक्ति होता है जो यांत्रिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदलता है या विद्युत चुंबकीय प्रेरण के सिद्धांत पर काम करता है।

(4) विद्युत वाहक बल की परिभाषा दें?

उत्तर:-एकांक धन आवेश की किसी सेल में एक सिरे से दूसरे सिरे तक से जाने में किया गया कार्य को विधु त वाहक बल कहते हैं इससे e.m.f. भी लिखा जाता है ईसाई द्वारा सूचित किया जाता है और यह एक सदिश राशि है और इसका एस आई मात्रक वोल्ट होता है

(5). आवर्तकाल की परिभाषा दें?

उत्तर:-किसी काम को एक चक्कर या एक काम पर लगाने में कितना समय लगता है उसे निश्चित समय को आवर्तकाल कहते हैं और इसे T से सूचित किया जाता है इसका एस आई मात्रक सेकंड होता है और इसका बीमा T होता है।

(6). पानी अर्थात जाल की अपेक्षा चीनी का         बिलियन में विद्युत प्रभावित नहीं होता है क्यों?

उतर:-चुकी हम जानते हैं कि चीनी का जलीय विलियन में चीनी के अनोखी आयनिक वजन नहीं होता है अर्थात चीनी का जलीय विलियन विद्युत वाहक बल नहीं होता है।

(7). विद्युत चुंबकीय प्रेरण से आप क्या समझते हैं?

उत्तर:- महान वैज्ञानिक माइकल जाए रेट नेके अनुसार किसी बांध परिपथ के नजदीकी जब किसी चुम्मा को रखा जाता है तो चुंबक से निकलने वाली क्योंकि वाली रेखा परिपथ से होकर गुजरती है जल स्वरूप परिपक्वता के ऊपर विद्युत वाहक बल की उत्पत्ति हो जाती है इसी घटना कोविड-19 की प्रेरण कहते हैं।

(8). प्रकाश संश्लेषण के लिए पौधों को सूरज की रोशनी की आवश्यकता होती है प्रयोग द्वारा समझाएं।

उत्तर:- अथवा गमले में लगे किसी पौधे को 24 घंटे पूर्ण अंधेरे में रखा। ताकि इसकी पत्तियों का सटार्च खर्च हो जाए। एबीसी एक पति को कर्ज के सहायता से बोतल के अंदर घुसा दिया। पुलिस के पूर्व बोतल में थोड़ा koh रख दिया ताकि वह बोतल की कार्बन डाइऑक्साइड को सोख ले। अब पूरे समायोजन को धूप में रखा और 6 घंटे बाद बोतल की पत्ती को सावधानीपूर्वक निकाल कर अलग कर लिया प्ले स्टोर अब सटार्च टेस्ट करते हैं। प्राप्त निष्कर्षण को विधिवत लिखा।

(9). मानव में अंतः स्रावी ग्रंथियों का सचित्र वर्णन करें।

उत्तर:- ऐसे ग्रंथियां जो शरीर के अंदर आंतरिक रूप से हार्मोन ओं का सर्वर करती है जिसका संबंध नलिकाओं से नहीं होता है और जिसके द्वारा साबित हरमोनू का प्रवाह सीधे रक्त में होता है अंतः स्रावी ग्रंथियां कहलाती है।Science 

मनुष्य तथा अन्य कोशेरोंकी जंतुओं में पाई जाने बाली अंत स्रावी ग्रंथियों के नाम इस प्रकार हैं (1) पीयूष ग्रंथि या पिट्यूटरी ग्रंथि(2) थायराइड ग्रंथि(3) पैरा थायराइड ग्रंथि(4) एड्रिनल ग्रंथि(5) थाइमस ग्रंथि(6) पीनियल ग्रंथि(7) जनन ग्रंथि वूसन और अंडासय।

इसी तरह के जानकारी के लिए हमारे चैनल telegram join करें।

(10).  मनुष्यों में ऑक्सीजन तथा कार्बन डाइऑक्साइड का परिवहन कैसे होता है ।

उत्तर:- मानव प्राणियों में प्रमुख परिवहन तंत्र रुधिर परिसंचरण तंत्र होता है
मानव के प्रत्येक फेफड़े मैं अनेक सूक्ष्म कूपिताएं होती है। प्रत्येक कूपीका
में भरी वायु में से ऑक्सीजन बिशरित होकर लाल रुधिर कनिकाआ में उपस्थित हिमोग्लोबिन में चली जाती है और शरीर की सभी कोशिकाओं में वितरित कर दी जाती है।Science 

ग्लूकोज के विश्लेषण से कार्बन डाइऑक्साइड गैस उत्पन्न होती है। रुधिर के संपर्क में आने पर उसके प्लाज्मा में मिल जाती है। Science

यह गैस फेफड़े की कॉपीका के संपर्क में आने पर उसमें भारी बाजू में विसरित
हो जाती है तत्पशचात वाह नासिका रन्ध्रों से शरीर के बाहर निकाल दी जाती है।

(11). कोई वस्तु सजीव है इसका निर्धारण करने के लिए हम किसी मापदंड का उपयोग करेंगे?

उत्तर:- हमारे चारों ओर उपस्थित वस्तुओं में से सजीव है या निर्जीव वास्तु की पुष्टि के लिए सामान्य रूप से उनमें होने वाली गति को देखते हैं। यदि वस्तु बिना किसी वाह शक्ति के लिए गति करती है तो उसे जीवित कहते हैं।Science 

यदि कोई बहुकोशिकीय जीव सोई हुई अवस्था में है तो भी आनिवक गति निरंतर हो रहा है यद्यपि वह बाहर से दिखाई नहीं पड़ती तो भी उनमें गति हो रही होती है। स्पष्ट है कि गति द्वारा हम सजीव तथा निर्जीव वस्तु को निर्धारण कर सकते हैं

सामाजिक विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर के लिए यहां दवाएं।

(12). पौधों में प्रकाश संश्लेषण की क्रिया को सचित्र दर्शाइए।

उत्तर:- पेड़ पौधों द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड जल एवं पर्णहरित के माध्यम से सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में ग्लूकोज का संश्लेषण करना प्रकाश संश्लेषण कहलाता है। इस प्रक्रम मैं ऑक्सीजन गैस मुक्त होता है जो जल के अपघटन से निकलती है। Science 

ग्लूकोज का उपयोग ऊर्जा उत्पादन मैं किया जाता है।
प्रकाश संश्लेषण को एक संपूर्ण रसायनिक समीकरण के रूप में इस प्रकार व्यक्त किया जाता है। Science 

(13). शुक्राशय ग्रंथि पर टिप्पणी लिखें।

उत्तर:- शुक्राशय ग्रंथि एक जोड़ा मांसल ग्रंथि कार रचना है जो करीब 5 सेंटीमीटर लंबा होता है तथा मूत्राशय एवं रेक्टम के विच पाई जाता है। Science 

इसे शुक्ररस का श्रावण होता है जो करीब कूल वियर का 60 से 70 परसेंट हिस्सा होता है। इसमें फ्रुक्टोज प्रोजेक्टर क्लाइंट फाइब्रिनोजेन तथा ऑन प्रोटीन पाए जाते हैं। Science 

प्रोस्टाग्लैंडइन द्वारा गर्भाशय की दीवाल में peristalsis  होता है जिससे शुक्राणु ऊपर की ओर गति करता है। फ्रुक्टोज द्वारा शुक्राणु का पोषण होता है।

Hello I am Ranjit Kumar from ( Bihar ) Founder of blog fastjagran.com . Ranjit has got over 3+ year of experience with Technology, Yojana news, Board Related Updates etc. He runs multiple online publication in India. You can Contact him at ranjit954553@gmail.com

2,712 thoughts on “Science जीव विज्ञान के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न एवं उत्तर”

  1. Clint,Thank you the simple message above. As a worship leader who only has one team and hardly any time off, I sometimes get that burned out feeling and I get lazy when it comes to picking music and picking up my bible… we sometimes need an outside source to remind us of why we do what we do. You did that… thank you. Now I’m going to get my bible and read your suggested scripture verses… God Bless you.

    Reply
  2. Vile status CBD gummies can be touchy in the service of a some reasons:
    Off the beam or inconsistent dosage: CBD gummies should bridle a exact amount of CBD per serving, but lousy quality gummies may not accurately moderation the amount of CBD in each gummy. This can precede to inconsistent dosing and potentially inadequate or equable pernicious results.
    Contamination: CBD gummies that are made with low-quality or contaminated ingredients can be noxious to consume. Some companies may use CBD that is sourced from low-quality hemp or may list harmful additives or chemicals.
    Lying advertising: Some companies may make inaccurate claims approximately the amount of CBD in their products or the effects that their products can have. This can come to consumers being misled and potentially wasting their money on unskilful products.
    To steer clear of painful eminence CBD gummies, it’s important to do your research and decide a trustworthy brand. Look because products that contain been third-party tested, which means an untrammelled lab has verified the amount of CBD in the product and checked for contaminants. Additionally, look in behalf of products that put to use high-quality ingredients and give clear news upon dosage and effects.

    Reply
  3. Very nice post. I just stumbled upon your blog and wanted to say that I’ve really enjoyed browsing your blog posts. In any case I’ll be subscribing to your feed and I hope you write again soon!

    Reply
  4. I have read your article carefully and I agree with you very much. This has provided a great help for my thesis writing, and I will seriously improve it. However, I don’t know much about a certain place. Can you help me?

    Reply
  5. I am currently perfecting my thesis on gate.oi, and I found your article, thank you very much, your article gave me a lot of different ideas. But I have some questions, can you help me answer them?

    Reply
  6. At the beginning, I was still puzzled. Since I read your article, I have been very impressed. It has provided a lot of innovative ideas for my thesis related to gate.io. Thank u. But I still have some doubts, can you help me? Thanks.

    Reply
  7. At the beginning, I was still puzzled. Since I read your article, I have been very impressed. It has provided a lot of innovative ideas for my thesis related to gate.io. Thank u. But I still have some doubts, can you help me? Thanks.

    Reply
  8. At the beginning, I was still puzzled. Since I read your article, I have been very impressed. It has provided a lot of innovative ideas for my thesis related to gate.io. Thank u. But I still have some doubts, can you help me? Thanks.

    Reply
  9. I may need your help. I tried many ways but couldn’t solve it, but after reading your article, I think you have a way to help me. I’m looking forward for your reply. Thanks.

    Reply
  10. I may need your help. I tried many ways but couldn’t solve it, but after reading your article, I think you have a way to help me. I’m looking forward for your reply. Thanks.

    Reply
  11. I may need your help. I tried many ways but couldn’t solve it, but after reading your article, I think you have a way to help me. I’m looking forward for your reply. Thanks.

    Reply